Monday, 7 June 2010

हमारा जिला बोकारो : एक परिचय

बोकारो झारखंड राज्‍य के 24 जिलों में से एक है। बोकारो जिला मुख्यालय स्थित बोकारो इस्पात नगर 23.29 आक्षांश और 86.09 देशान्तर पर है । बोकारो जिला का सम्पूर्ण भौगोलिक क्षेत्रफल 2861 वर्ग कि.मी. और 35766.36 हेक्टेयर की भूमि पर फैला हुआ है । यह दामोदर नदी के दक्षिणी हिस्से में पारसनाथ की पहाड़ियों के बीच स्थित है। 1991 में धनबाद जिले से दो ब्‍लॉक और गिरिडीह जिले से छह ब्‍लोकों को काटकर इस जिले को मूर्त रूप दिया गया। बोकारो स्‍टील सिटी इसका जिला मुख्‍यालय है। 2001 की जनगणना के अनुसार इस जिले की जनसंख्‍या 17,75,961 है। यह 2861 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। इसकी समुद्र तल से औसत ऊंचाई 210 मीटर है। दामोदर नदी के कारण यहां के उद्योगो और औद्योगिक नगरों को पानी की आपूर्ति होती है। पूरे झारखंड में छोटी बडी अनेक पहाडियां हैं। 



वर्ष 1968 में तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व.इंदिरा गांधी ने जिस सोच के तहत बोकारो में स्टील प्लांट के साथ विकास की नयी बुनियाद खड़ी थी। आज उसी बुनियाद पर औद्योगिक उन्नति की नई-नई इमारतें खड़ी होती जा रही हैं। कभी पहाड़, जंगल-झाड़ियों के बीच बसा यह जिला आज विकास के नये आयाम की ओर काफी तेजी से अग्रसर होता दिख रहा है। सेल (स्टील अथॉरिटी आफ इंडिया लिमिटेड) के द्वारा बोकारो में एक बडा स्‍टील प्‍लांट लगाया गया है। यहां अन्‍य छोटे बडे उद्योग भी हैं। भारत के औद्योगिक नक्‍शे में यह क्षेत्र प्रमुखता से दिखाई देता है। इधर दुनिया की सबसे बड़ी इस्पात निर्माता कम्पनी आर्सेलर-मित्तल ने वर्ष 2005 में किये गये एमओयू के आलोक में जिले के पेटरवार व कसमार में 12 मिलियन टन का स्टील प्लांट लगाने की घोषणा कर क्रांतिकारी पहल की शुरुआत कर दी है।



बोकारो जिले में 8 ब्‍लॉक हैं , जिनके नाम इस प्रकार हैं .... बेरमो , चास , चंदनक्‍यारी , गोमिया , जरीडिह , कसमार , पेटरवार और नावाडीह। यहां घूमने के लिए उपयुक्त मौसम  सितंबर से फ़रवरी तक है। बोकारो जेनरल अस्पताल शहर या जिले का सबसे अच्छा अस्पताल है.यहां साक्षरता का प्रतिशत अच्‍छा है। खासकर बोकारो स्‍टील सिटी के प्रतिभाशाली छात्र डॉक्‍टर , इंजिनियर बनकर और अन्‍य महत्‍वपूर्ण पोस्‍टों पर सुशोभित होकर देश विदेश में यहां का नाम रोशन कर रहे हैं। 

5 comments:

  1. umda jankari..

    गाँधी जी का तीन बन्दर का सिद्धांत-एक नकारात्मक सिद्धांत http://bit.ly/b6I9y

    ReplyDelete
  2. आपने शहर घुमा दिया संगीता जी

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया ...अच्छी जानकारी दी है आपने
    www.jugaali.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete
  5. sangeeta puri ji mai bhi bokaro se hu, aur bokaro se aap bhi hai aur bokaro ke liye itna kuch sochte hue likh rahi hai. iske liye hardik badhai

    ReplyDelete

आपको ये लेख कैसा लगा ??