Wednesday, 25 August 2010

नेतरहाट आवासीय विद्यालय नामांकन घोटाले में बोकारो भी शामिल

कभी एकीकृत बिहार और अब झारखंड का गौरव कहा जानेवाला नेतरहाट आवासीय विद्यालय नामांकन घोटाले को लेकर चर्चा में है। कुल 100 सीटों के लिए हुई प्रवेश परीक्षा में 48 बच्चे फर्जी तरीके से परीक्षा पास किया है। जिसका प्रमाण झारखंड एकेडमिक काउन्सिल को मिला है। इन 48 बच्चों में से राँची के 37 और बोकारो के 11 बच्चे है।

प्रवेश परीक्षा के प्रकाशित परिणाम में से कुल ग्यारह छात्र कुर्मीडीह होली पब्लिक स्कूल के ही चयनित हो गए। इसमें कई छात्र रांची में रहते थे लेकिन नेतरहाट प्रवेश परीक्षा कुर्मीडीह होली पब्लिक स्कूल से दी। मामले पर अधिविद्य परिषद की नजर पड़ी व जांच का सिलसिला चल पड़ा। जब परिषद के संयुक्त सचिव ए के मल्लिक विद्यालय पहुंचे तो सब कुछ साफ हो गया कि चयनित छात्रों में से एक भी इस विद्यालय के नहीं हैं। न ही प्रधानाध्यापक ने उनका फार्म अग्रसारित कराया है। ऐसे में परिषद ने 18 अगस्त को सभी उत्तीर्ण छात्रों एवं प्रधानाध्यापक को परिषद कार्यालय में मूल प्रमाण पत्रों के साथ उपस्थित होने का निर्देश दिया था।

विभिन्न छात्र संगठन प्रतिनिधियों ने गुरुवार को जिला शिक्षा प्रबंधन से भ्रष्टाचार मिटाने का संकल्प लिया। रांची विवि के जनजातीय व क्षेत्रीय भाषा विभाग में हुई बैठक में एनएसयूआई, जेसीएम, जेसीएस, जेवीसीएम, आजसू व आमसा के प्रतिनिधियों ने कहा कि नेतरहाट नामांकन घोटाले का केंद्र जिला शिक्षा कार्यालय है।छात्र नेताओं ने डीईओ कार्यालय के अधिकारियों व कर्मचारियों की संपत्ति की जांच कराने की भी मांग की।


झारखंड एकेडमिक काउन्सिल ने सभी 48 बच्चों के नामांकन को रद्द करने का फैसला किया है । झारखंड एकेडमिक काउन्सिल का मानना है कि इस घोटाले में कई पदाधिकारी के साथ साथ विद्यालय के प्रिंसिपल दोषी है। काउन्सिल को यह भी आशंका है कि नामांकन घोटाला काफी पहले से चलता आ रहा है। जैप ने इसकी जाँच कराने का भी निर्णय लिया है।

Monday, 23 August 2010

डीपीएस बोकारो की प्राचार्या हेमलता एस मोहन झारखंड राज्य महिला आयोग का अध्यक्ष बनीं !!

डीपीएस बोकारो की प्राचार्या हेमलता एस मोहन को झारखंड राज्य महिला आयोग का अध्यक्ष बनाया गया है. लक्ष्मी सिंह का कार्यकाल सितंबर 2009 में पूरा होने के बाद से यह पद रिक्त था.

वहीं समाजसेवी व वरिष्ठ पत्रकार वासवी किड़ो और रांची वीमेंस कॉलेज की प्रोफ़ेसर इंचार्ज व इतिहास की शिक्षिका डॉ जीनत कौशर
, रांची विवि स्नातकोत्तर हिंदी विभाग की पूर्व अध्यक्ष व पूर्व कुलपति स्वर्गीय डॉ एके धान की पत्नी डॉ मंजु ज्योत्सना तथा सिल्ली छोटामुरी की रहनेवाली अनुराधा चौधरी को आयोग का सदस्य बनाया गया है.

राज्यपाल एमओएच फारूक के निर्देश पर समाज कल्याण विभाग द्वारा अधिसूचना जारी कर दी गयी है. डॉ जीनत कौशर को नीलांबर-पीतांबर विवि डालटनगंज में प्रतिकुलपति बनाया गया था
, लेकिन उन्होंने योगदान नहीं किया.
(प्रभात खबर से साभार)
उन्‍हें बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

Thursday, 5 August 2010

बोकारो में क्वींस बैटन का भव्य स्वागत

कामनवेल्थ गेम्स को लेकर निकली मशाल क्वींस बैटन  के बोकारो आगमन से पहले ही इसका विरोध शुरू हो गया था। कई दिन पूवर्क्वींस बैटन विरोधी मंच के बैनर तले चास स्थित धर्मशाला मोड़ पर सदस्यों ने धरना देकर अपने विरोध का इजहार किया था । धरना देने वालों का विचार था कि क्वीन नाम होने से बैटन का स्वागत भारतमाता के वीर शहीदों का अपमान है। उन्होंने इसे पूरी तरह से औचित्यहीन बताया था। मंच के सदस्यों ने प्रशासनिक अधिकारियों को पत्र के माध्यम से कहा था कि इसका नाम बदल कर किसी राष्ट्रपुरोधा के नाम पर किया जाए। धरने में अनिल कुमार गुप्ता, राजेंद्र महतो, धर्मवीर, वाहिद खान आदि मौजूद थे। 

पर आज क्वींस बैटन धनबाद होते हुए जब बोकारो पहुंची , तो इसका भव्य स्वागत किया गया। जिले के उपायुक्त डा. नितिन मदन कुलकर्णी और पुलिस कप्तान साकेत कुमार सिंह ने बैटन को थामा।बोकारो पहुंचने पर बैटन का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में खेलप्रेमियों की मौजूदगी रही। इसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग सड़क के दोनों ओर खड़े थे। स्कूली बच्चों ने स्वागत गान गाया। क्वींस बैटन के स्वागत में बोकारो के रुटों को काफी शानदार ढंग से सजाया गया था।




क्वीन्स बेटन रिले का स्वागत स्कूली बच्चों ने निराले अंदाज में गीत व नृत्य के माध्यम से किया। बोकारो क्लब के सभागार में संगीत संध्या का आयोजन किया गया। बीआईवी दो ए के विद्यार्थियों ने आदिवासी नृत्य पेश कर राज्य की माटी की खुशबू बिखेर दी। इसके बाद दिल्ली पब्लिक स्कूल बोकारो के बच्चों ने बेला बिहस गए., आया है लाया उत्साह और खुशहाली शेरू ने भर., बीएसएल स्कूल के बच्चों ने धन्य-धन्य झारखंड की धरती., संगीत कला एकेडमी की बच्चियों ने फीफा व‌र्ल्ड कप की थीम पर आधारित नृत्य, केवी एक के बच्चों ने धींग धापा धैरिया बाजे मांदर आखरा.गीत पर समूह नृत्य पेश कर क्वीन्स बेटन टीम के सदस्यों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की बच्चियों ने हरियाणा के लोक गीत पर नृत्य प्रस्तुत किया। 

रिले टीम के स्क्वार्डन लीडर कमल चौधरी ने क्वीन्स बेटन की खासियत का वर्णन किया। कार्यक्रम का संचालन संचार, प्रमुख संजय तिवारी ने किया। अंत में उपायुक्त डा.कुलकर्णी एवं बीएसएल के प्रबंध निदेशक शशि शेखर महांती ने बेटन बियरर्स एवं आला अधिकारियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर बीएसएल एवं जिला प्रशासन के अलावा टीम में शामिल अधिकारी व सदस्य उपस्थित थे। कामन वेल्थ गेम्स के शुभंकर शेरू ने भी मंच पर नृत्य का जादू बिखेर दिया। शेरू की तस्वीर कैमरे में कैद करने के लिए लोग खासे उतावले हो रहे थे। कई लोग शेरू के साथ ताल पर ताल मिला कर नाच कर रहे थे।



क्वींस बैटन के स्वागत को रांची भी पूरा तैयार है। क्वींस बैटन कल सुबह राजधानी रांची आ रही है। इसके स्वागत के लिए राजधानी पूरी तरह से तैयार है। रांची की सीमा चुटुपालू में प्रवेश करने के बाद क्वींस बैटन जिला प्रशासन के हाथों में होगा। इसके बाद बैटन को बूटी मोड़ स्थित झारखंड वार मेमोरियल लाया जाएगा। वहां पर झारखंड ओलंपिक एसोसिएशन को प्रशासन बैटन सौंप देगा। 


रांची के जिलाधिकारी केके सोन ने बताया कि रास्ते में राजभवन, बिरसा चौक और मोरहाबादी के समीप गांधी जी की प्रतिमा के सामने इसका समापन होगा। कल शाम सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए जाएंगे। सात अगस्त को खेलगांव से निकलकर बैटन टाटीसिल्वे व नामकुम होते हुए जमशेदपुर चली जाएगी। इस दौरान रांची में यातायात की मुकम्मल व्यवस्था की गई है। यातायात एसपी बिगलाल उरांव ने बताया कि राजधानी में बैटन रुट में बड़ी संख्या में यातायात पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाएगा।



क्वींस बेटन रिले के आगमन पर जहां चास नगर पार्षद की ओर से स्वागत कर रही थींवहीं चास नपा उपाध्यक्ष मो वाहिद खान क्वींस बेटन का विरोध कर रहे थे. यह घटना एक ही साथ अलग-अलग चास में ही घटी. चास नपा अध्यक्ष गंगा भालोटिया नील कमल होटल के सामने क्वींस बेटन रिले का जोरदार स्वागत कियातो चास के नेताजी सुभाष चंद्र चौक पर चास नपा उपाध्यक्ष मो वाहिद खान ने क्वींस बेटन रिले का विरोध करते हुए गिरफ्तारी दी. चास थाने में गिरफ्तार चास नपा उपाध्यक्ष ने कहा कि क्वींस बेटन का भारत भ्रमण हिंदुस्तान का अपमान हैइसलिए वे इसका विरोध कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिन अंग्रेजों के शासन काल में भारत गुलाम रहाउसी देश की महारानी क्वींस बेटन के नाम पर देश में आज बेटन का भ्रमण हो रहा है और भारतवासी उसका स्वागत कर रहे हैंयह उचित कदम नहीं है.

(दैनिक भास्‍कर से साभार)